WCREU

रेलवे राष्ट्र की सम्पत्ति है, किसी को बेचने का अधिकार नहीं – मुकेश गालव

कोटा 16 सितम्बर रेलवे के निजीकरण के खिलाफ ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन एवं वेस्ट सेंट्रल रेलवे एंप्लाइज यूनियन के तत्वाधान में जन-आंदोलन के तहत कोटा मंडल की समस्त शाखाओं वैगन रिपेयर शाॅप-कोटा, तुगलकाबाद, भरतपुर, बयाना, गंगापुरसिटी, बांरा, बूंदी, रामगंजमंडी, शामगढ़, विक्रमगढ़ आलोट तथा कोटा प्राॅपर की टीआरडी, कैरिज एण्ड वैगन, कोटा लोको, ओपनलाईन शाखा, इंजीनियरिंग, डीआरएम शाखा द्वारा रेलकर्मचारी व अन्य प्रभावित वर्गों से जनसम्पर्क किया गया।
यूनियन के महामंत्री मुकेश गालव ने बताया कि कोरोना महामारी की आड़ में रेलवे बेचने का खेल चल रहा है। केंद्र सरकार रेलगाड़ियां रेलवे स्टेशन रेलवे कर्मचारियों के कार्यो एक-एक करके निजीकरण करती जा रही है आज यूनियन द्वारा रेल कर्मचारियों से संपर्क केंद्र सरकार की मजदूर विरोधी नीतियों के बारे में चर्चा की। रेल को बिकने से बचाने के लिए हो रहे इस जन आंदोलन में सब रेलकर्मी एक मंच पर इकट्ठे होकर केंद्र सरकार की नीतियों का जोरदार विरोध करें। आज सभी वर्गों से बैठक कर आगे की रणनीति तय की गईं जिसमें कोटा के केन्द्रीय श्रम संगठनों, व्यापार महासंघ, विद्यार्थी संघ, पेंशनर्स एसो., तथा सभी समाजों के संगठनों के बात कर इस आन्दोलन को उग्र बनाने का फैसला लिया।
यूनियन द्वारा आज मंडल रेल चिकित्सालय में सभी नर्सिंग स्टाफ, फार्मासिस्ट, चतुर्थ श्रेणी कर्मचारी सहित सभी रेलकर्मचारियों की आम सभा का आयोजन किया गया जिसमें श्री गालव ने रेलवे के निजीकरण से होने वाले दुष्प्रभावों के बारमें जानकारी दी। इस अवसर पर यूनियन के कोषाध्यक्ष इरशाद खान ने संबोधित करते हुये आगामी कार्यक्रमों में जोर शोर से भाग लेने का आव्हान किया। इसके साथ ट्रेन लाईटिंग कार्यालय में शाखा सचिव एम.एस.बग्गा के नेतृत्व में रेलकर्मचारियों को निजीकरण के दुष्प्रभावों के बारे में जानकारी देकर कल दिनांक 17 सितम्बर 2020 को सांय 5.00 बजे होने वाली मोटरसाईकिल रैली जो वेस्ट सेन्ट्रल रेलवे एम्पलाईज यूनियन कार्यालय से प्रारंभ होकर नयापुरा तक निकाली जायेगी, में ज्यादा से ज्यादा संख्या में भाग लेने का आव्हान किया।

Categories: WCREU, WCREU NEWS

Tagged as: