WCREU

निजी करण से रेल उद्योग हो जावेगा तबाह

जन आंदोलन के तहत रेल कर्मियों ने आज भी किया विरोध प्रदर्शन एवं द्वार सभाओं का आयोजन
AIRF/WCREU ने किया है आंदोलन का आह्वान
गंगापुर सिटी 16 सितंबर।
भारतीय रेल के निजीकरण के खिलाफ ऑल इंडिया रेलवे मेंस फेडरेशन वेस्ट सेंट्रल रेलवे एंप्लाइज यूनियन के आह्वान पर आज भी रेलवे के कई विभागों में यूनियन कार्यकर्ताओं ने द्वार सभाओं का आयोजन किया ।आज मलारना स्टेशन पर यातायात शाखा के सचिव हरिप्रसाद मीणा एवं इंजीनियरिंग शाखा के अध्यक्ष हरकेश मीणा के नेतृत्व में कर्मचारियों ने केंद्र सरकार की नीतियों के विरोध में प्रदर्शन किया एवं आम सभा का आयोजन किया। इस प्रकार स्वास्थ्य विभाग कैरिज विभाग में भी द्वार सभाओं का आयोजन किया गया ।इस दौरान रेल कर्मचारियों ने केंद्र सरकार द्वारा रेलवे उद्योग का निजी करण करने के विरोध मे जमकर नारेबाजी की। इस अवसर पर रेल कर्मचारियों को संबोधित करते हुए यूनियन के मंडल उपाध्यक्ष नरेंद्र जैन ,यातायात शाखा के सचिव हरिप्रसाद मीणा, हरकेश मीणा ,शरीफ मोहम्मद ने कहा कि आजादी के बाद भारतीय रेल का गठन आम जनता के लिए सस्ता एवं सुगम साधन उपलब्ध करवाने के लिए किया गया था । इसके साथ ही भारतीय रेल युवाओं के लिए सबसे ज्यादा रोजगार के अवसर उपलब्ध करने वाला उद्योग भी है। इसके निर्माण में रेल कर्मियों का खून पसीना तो है ही साथ-साथ आम जनता की द्वारा दिया गया टैक्स भी है ,जिसके कारण आज भारतीय रेल के अंदर ढाई करोड़ से ज्यादा यात्री प्रतिदिन यात्रा करते हैं ।आमजन के लिए भारतीय रेल जीवन रेखा के समान है। इसका यदि निजी करण कर दिया गया यह देश भी बर्बाद हो जाएगा और यहां के युवाओं को रोजगार के अवसर देने वाला सबसे बड़ा उद्योग भी तबाह हो जाएगा। सरकार को अपने निर्णय पर अपने पुनःविचार करना चाहिए। इस अवसर पर यूनियन के पदाधिकारी विकास चतुर्वेदी महेश चंद्र सेन डीके गुर्जर उदय सिंह गुर्जर हरिमोहन गुर्जर रामकेश मीणा सहित दर्जनों रेल कर्मी उपस्थित थे।

Categories: WCREU, WCREU NEWS