HMS

यूनियन की मांग पर निर्माण श्रमिक चैराहों पर होगा छाया-पानी की व्यवस्था श्रममंत्री के साथ यूनियन के महामंत्री की बैठक

कोटा 03 सितम्बर। भवन एवं अन्य संनिर्माण श्रमिकों की समस्याओं को लेकर आज 03 सितम्बर 2020 को श्रममंत्री श्रीमान टीकाराम जूली के साथ हिन्द मजदूर सभा राजस्थान प्रदेश के महामंत्री मुकेश गालव की जयपुर में बैठक आयोजित की गई हैं।
यूनियन के महामंत्री मुकेश गालव ने श्रीमान श्रममंत्री महोदय के समक्ष भवन एवं अन्य संनिर्माण में कार्यरत श्रमिकों की ज्वलंत समस्याओं की ओर ध्यान आकर्षित किया कि राजस्थान में हजारों भवन निर्माण श्रमिक मेहनत व ईमानदारी से राजस्थान के विकास में निरन्तर कार्य करते आ रहे है। हिन्द मजदूर सभा से संलग्न आजाद हिन्द बिल्डिंग वर्कर्स यूनियन हमेशा श्रमिक हितों के कार्य करती है तथा समय समय पर श्रमिकों के हितों के लिये उनकी समस्याओं के मुद्दे उठाती आ रही है। जिसमें राजस्थान के समस्त जिलों के लेबर चैराहो पर टिनशेड व पीने के पानी की व्यवस्था करना है। इस पर श्री गालव ने श्रममंत्री महोदय का ध्यान आकर्षित किया कि राजस्थान के समस्त जिलों के मुख्य मुख्य लेबर चैराहों पर मजदूर सुबह सुबह रोजगार की तलाश में आते है। कई घंटों तक धुप, बरसात में लेबर चैराहो पर खड़े रहते है। चैराहो पर ना तो टिनशेड की व्यवस्था है और ना ही पीने के पानी की कोई व्यवस्था है। इस पर श्रममंत्री महोदय ने यूनियन की मांग को जायज मानते हुये राजस्थान के समस्त जिला कलेक्टर को श्रममंत्रालय से 1-1 लाख रू. का बजट स्वीकृत करते हुये कहा कि लेबर चैराहो पर छाया-पानी की व्यवस्था शीघ्र करवा दी जायेगी।
यूनियन की मांग है कि पंजीकृत निर्माण श्रमिकों के बच्चों को मिलने वाली छात्रवृति योजना कक्षा 6 पास करने के बाद मिलती है इस योजना को कक्षा 01 से प्रारम्भ किया जाये। इस पर श्रममंत्री महोदय ने यूनियन की मांग को बहुत अच्छी बताते हुये कहा कि राजस्थान श्रम विभाग में एक कमेटी बनाई जायेगी जिसमें दूसरे राज्यों में कौनसी कक्षा से छात्रवृति मिल रही है इस पर चर्चा करके राजस्थान में भी पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को कक्षा 1 से छात्रवृति प्रारंभ कर दी जायेगी।
श्रम विभाग द्वारा देय टूलकिट योजना जो सभी पंजीकृत श्रमिको को पंजीयन के 3 वर्ष पश्चात उनके कार्य करने के औजार खरीदने हेतु श्रम विभाग द्वारा 2000 रू. की एक ही बार सहायता दी जाती है । यूनियन की इस मांग को श्रममंत्री महोदय ने स्वीकार करते हुये कहा कि निर्माण श्रमिक के पंजीयन के 1 महीने के बाद ही इस योजना को प्रारंभ कर दिया जायेगा।
यूनियन ने बताया कि कोरोना महामारी के समय राजस्थान सरकार द्वारा जारी घोषणा के तहत बहुत से श्रमिकों के खातों में 2500 $ 1000 रूपये कि राशि का भुगतान नही हुआ है। इस पर श्रममंत्री महोदय ने बताया कि सभी पंजीकृत श्रमिकों की लिस्ट तैयार की जा रही है जिस भी श्रमिक को इस राशि का भुगतान नहीं हुआ है शीघ्र ही उनका भुगतान कर दिया जायेगा।
यूनियन की मांग है कि श्रम विभाग द्वारा श्रमिकों की अविवाहित पुत्रियों को दी जाने वाली शुभशक्ति योजना का लाभ वर्ष 2017 से ही प्राप्त नही हो रहा है। इस मांग पर श्रममंत्री महोदय ने बताया कि कोविड-19 की वजह से फंड की कमी के कारण इस योजना की राशि को रोका गया है। शीघ्र ही फेज वाईज इस योजना के तहत श्रमिकों को राशि प्रदान की जायेगी।
इसी प्रकार श्री गालव ने सभी पंजीकृत निर्माण श्रमिकों को बीपीएल की श्रेणी में शामिल करना, बजरी की समस्या, महिला श्रमिक को सिलाई मशीन व पुरूष श्रमिकों को सहायतार्थ साईकिल देना, श्रम विभाग में पंजीकृत श्रमिक डायरी में अंशदान वर्ष 2021 तक जमा है डायरी आॅन लाईन नही हो रही है। अंशदान श्रम विभाग में जमा होने पर भी डायरी बंद है, किसी भी पंजीयन आवेदन के एक बार रिजेक्ट होने के पश्चात पुनः आवेदन नही किया जा सकता है। आजीवन उस श्रमिक की श्रमिक डायरी नही बनती है श्रम विभाग की योजनाओं का लाभ श्रमिक होते हुये भी प्राप्त नही कर पाता, श्रम विभाग द्वारा श्रमिक की डायरी में अंशदान समाप्त होने पर श्रमिक से पिछले 5 वर्षो का नियोजक प्रमाण पत्र (कार्य प्रमाण पत्र) मांगा जाता है। 5 वर्ष पूर्व का नियोजक आई.डी. देने से मना कर देता है। इसका सरलीकरण किया जाये, सभी पंजीकृत श्रमिकों को राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना में जोड़ा जाये जिससे श्रमिकों को सस्ता राशन मिल सकें, साथ ही सभी खदान श्रमिकों को भवन निर्माण श्रमिकों की तरह मिलने वाली सुविधाओं में जोड़ा जैसी मांगों को भी श्रममंत्री के समक्ष रखा। श्रममंत्री महोदय ने यूनियन की सभी समस्याओं का शीघ्र निराकरण करने का आश्वासन दिया।

Categories: HMS, WCREU

Tagged as: , ,